एक और भयानक चिट्ठाचोर..कहीं आपका…??

नमस्कार!
मैं Ashley Layla , अन्तर-जाल व्यापार का विशेषज्ञ हूँ| मैं खोज यन्त्र संधान कर्ता भी हूँ | मैं इस क्षेत्र में गत 1 वर्षो से हूँ तथा इसके प्रत्येक गुण एवं दोष से भालीभाती परिचित हूँ| आपके किसी भी जिज्ञाषा को शांत करने में पूर्णतया समर्थ, मैं आपकी सेवा में उपस्थित हूँ !
इन सब के अलावे मेरी कुछ रुचियाँ भी हैं जिनमें कविता लेखन तथा चुटकुले सामिल हैं..मेरे साथ आप इनका भी आनंद ले सकते हैं |
मेरा पता यह है
जीमेल :- workwithseo@gmail.com
याहू :- ram_sachin@yahoo.co.in
हाटमेल : – workwithseo@hotmail.com

 

ये परिचय है एक चोर का जिन्होने अभी अभी एक चिट्ठा शुरु किया और इस चिट्ठे पर सारी की सारी रचनाऎं चोरी की हैं. यहाँ तक की इन्होने चित्र का मूल लिंक भी मूल चिट्ठे पर रखा है. इसी का फायदा उठाकर मैने अपनी चिट्ठे पर चित्र बदल दिया तो इनकी पोस्ट भी बदल गयी. आप भी देखिये.

मूल चिट्ठा मूल लेखक-तिथि चोर का नाम -तिथि चोरी का माल
वो कहते नहीं क्यूं मोहब्बत है उनको |

vinod kumar

Wednesday, September 19, 2007

January 23, 2008 — workwithseo वो कहते नहीं क्यूं मोहब्बत है उनको…
Mobile Hindi Love SMS’s January 20, 2008 — workwithseo Love SMS’s
टिंकू की दाढ़ी और लम्बाई September 5, 2007 by chaturchacha January 20, 2008 — workwithseo टिंकू की दाढ़ी और लम्बाई
आज कुछ कमी सी है तेरे बगैर December 10, 2007 — दीपक January 20, 2008 — workwithseo आज कुछ कमी सी है तेरे बगैर
मजेदार कार्टूनः टाटा नेनो के १० साइड इफेक्टस January 16, 2008 — Tarun January 20, 2008 — workwithseo मजेदार कार्टूनः टाटा नेनो के १० साइड इफेक्टस
ये कैसी बेबसी Tuesday, May 29, 2007

by Neeraj Rajput

January 20, 2008 — workwithseo ये कैसी बेबसी
“मैडम जी..कहाँ थी आप?” December 6, 2007

राजीव तनेजा

January 3, 2008 — workwithseo “मैडम जी..कहाँ थी आप?”
भूल गया Friday, December 14, 2007

सुधांशू द्वारा

January 3, 2008 — workwithseo भूल गया

रचनाकार: हिन्दी भाषा का प्रथम व्याकरण

November 17, 2007 December 30, 2007 — workwithseo हिन्दी भाषा का प्रथम व्याकरण
पारसी थियेटर, मुग़ले आज़म और माचिस की तीलियां

 

11Dec07

जगदीश भाटिया

December 31, 2007 — workwithseo पारसी थियेटर, मुग़ले आज़म और माचिस की तीलियां
क्रिसमस का इतिहास

 

December 24, 2007 December 30, 2007 — workwithseo क्रिसमस का इतिहास

By काकेश

मैं एक परिन्दा....उड़ना चाहता हूँ....नापना चाहता हूँ आकाश...

15 comments

  1. इस तरह की चोरी पर लगाम लगाना पड़ेगा सर….बिना इजाजत के किसी का लिखा हुआ कैसे ले सकते हैं ऐसे लोग?…इनसे सम्पर्क करके इन्हें समझाईये.

  2. इन्हें पहले तो सूचित किया जाए कि भाई इन्हें हटाओ. नहीं माने तो डोमेन प्रोवाइडर को बताया जाए. वैसे इस बारे में जीतू भाई ने दो पोस्टों में विस्तार से लिखा है-

    http://www.jitu.info/merapanna/?p=791

    http://www.jitu.info/merapanna/?p=667

  3. काकेश जी , आप लोग ही कोई समाधान निकालिये । मैंने देखा है कि आपने तो कॉपी राइट भी बना रखा है ।
    घुघूती बासूती

  4. काकेश भाई, क्या उपाय हो सकता है। पिछले छह साल से इंटरनेट प्रयोग कर रहा हूं पर ऐसी चोरी का समाधान नही मिल पाया है।

  5. बधाई हो काकेश्जी।
    काश कोई मेरी रचनाएं चुराता!
    इतना अच्छा मत लिखा कीजिए।
    कोई चोरी नहीं करेगा।

    G विश्वनाथ, जे पी नगर, बेंगळूरु

  6. अरे काकेश जी ,
    आप यह भूल गए ये जो परिचय आप दे रहे हैं वह यह से लिया गया है

    http://deepakjoke.wordpress.com/about/

    वैसे आज मुझे बहुत हँसी आ रही है .
    अब इन सब का क्या कहा जाए
    शाहब ऐश जी की मेल भी आ गयी मेरे पास जो करना हो कर लो
    देखते हैं कौन क्या कर सकता है ?
    गजब का सीना चोरी
    वाह दाद देना पड़ेगा इस ब्लॉग के मालिक को |

Leave a comment

Your email address will not be published.