ज़ूता-सेंडल पुराण की पोडकास्ट

आज जीतू जी के अतीत की कथा सुनकर ब्लॉग-नाद के बारे में पता चला, तो मेरी भी इच्छा हुई कि मैं अपनी आवाज रिकार्ड कर पॉड़कास्टिंग करूं। तो प्रस्तुत करता हूं मेरा पहला पॉडकास्ट।

अभी ये केवल .mp3 में ही अपलोड कर पा रहा हूं।

पोडकास्ट यहां सुने .

अपनी टिप्पणी दें और कोई गलती हुई हो तो कृपया बताऎं।

By काकेश

मैं एक परिन्दा....उड़ना चाहता हूँ....नापना चाहता हूँ आकाश...

6 comments

  1. काकेश, मजा आ गया सुनकर, आपकी आवाज जानदार है और बोलने का लहजा भी शानदार। सैंडिल की कहानी सुनकर मजा आ गया

  2. भली है भई, आप तो अच्‍छे खासे पॉडकांस्टिंग RJ हैं या शायद PJ कहना होगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.